Machal Kar Jab Bhi Aankhon Se Lyrics From Griha Pravesh [English Translation]

Machal Kar Jab Bhi Aankhon Se Lyrics: A Hindi song ‘Machal Kar Jab Bhi Aankhon Se’ from the Bollywood movie ‘Griha Pravesh’ in the voice of Bhupinder Singh. The song lyrics was given by Gulzar, and music is composed by Kanu Roy. It was released in 1979 on behalf of Saregama.The Music Video Features Sanjeev Kumar & Sharmila TagoreArtist: Bhupinder SinghLyrics: GulzarComposed: Kanu RoyMovie/Album: Griha PraveshLength: 3:39Released: 1979Label: Saregama

Machal Kar Jab Bhi Aankhon Se Lyrics

मचल के जब भी आँखों से
छलक जाते है दो आंसू
मचल के जब भी आँखों से
छलक जाते है दो आंसू
सुना है आबशारों को
बड़ी तकलीफ होती है
मचल के जब भी आँखों से
छलक जाते है दो आंसू
मचल के जब भी आँखों सेखुदरा अब तो बुझ जाने दो
इस जलती हुई लौ को
खुदरा अब तो बुझ जाने दो
इस जलती हुई लौ को
चरागों से मज़ारो को
बड़ी तकलीफ होती है
चरागों से मज़ारो को
बड़ी तकलीफ होती है
मचल के जब भी आँखों से
छलक जाते है दो आंसू
मचल के जब भी आँखों सेकहूँ क्या वो बड़ी मासूमियत से
पूछ बैठे है
कहूँ क्या वो बड़ी मासूमियत से
पूछ बैठे है
क्या सच मुच दिल के मारो को
बड़ी तकलीफ होती है
क्या सच मुच दिल के मारो को
बड़ी तकलीफ होती है
मचल के जब भी आँखों से
छलक जाते है दो आंसू
मचल के जब भी आँखों सेतुम्हारा क्या तुम्हे तो
राह दे देते है कांटे भी
तुम्हारा क्या तुम्हे तो
राह दे देते है कांटे भी
मगर हम खाकाज़ारो को
बड़ी तकलीफ होती है
मगर हम खाकाज़ारो को
बड़ी तकलीफ होती है
मचल के जब भी आँखों से
छलक जाते है दो आंसू
मचल के जब भी आँखों से.

Machal Kar Jab Bhi Aankhon Se Lyrics English Translation

मचल के जब भी आँखों से
Whenever from the eyes of Machal
छलक जाते है दो आंसू
two tears spill
मचल के जब भी आँखों से
Whenever from the eyes of Machal
छलक जाते है दो आंसू
two tears spill
सुना है आबशारों को
have heard the streams
बड़ी तकलीफ होती है
hurts a lot
मचल के जब भी आँखों से
Whenever from the eyes of Machal
छलक जाते है दो आंसू
two tears spill
मचल के जब भी आँखों से
Whenever from the eyes of Machal
खुदरा अब तो बुझ जाने दो
retail now let it go out
इस जलती हुई लौ को
to this burning flame
खुदरा अब तो बुझ जाने दो
retail now let it go out
इस जलती हुई लौ को
to this burning flame
चरागों से मज़ारो को
from pastures to tombs
बड़ी तकलीफ होती है
hurts a lot
चरागों से मज़ारो को
from pastures to tombs
बड़ी तकलीफ होती है
hurts a lot
मचल के जब भी आँखों से
Whenever from the eyes of Machal
छलक जाते है दो आंसू
two tears spill
मचल के जब भी आँखों से
Whenever from the eyes of Machal
कहूँ क्या वो बड़ी मासूमियत से
say that very innocently
पूछ बैठे है
is asking
कहूँ क्या वो बड़ी मासूमियत से
say that very innocently
पूछ बैठे है
is asking
क्या सच मुच दिल के मारो को
Do you really want to kill your heart?
बड़ी तकलीफ होती है
hurts a lot
क्या सच मुच दिल के मारो को
Do you really want to kill your heart?
बड़ी तकलीफ होती है
hurts a lot
मचल के जब भी आँखों से
Whenever from the eyes of Machal
छलक जाते है दो आंसू
two tears spill
मचल के जब भी आँखों से
Whenever from the eyes of Machal
तुम्हारा क्या तुम्हे तो
what about you
राह दे देते है कांटे भी
Even thorns give way
तुम्हारा क्या तुम्हे तो
what about you
राह दे देते है कांटे भी
Even thorns give way
मगर हम खाकाज़ारो को
but we eat
बड़ी तकलीफ होती है
hurts a lot
मगर हम खाकाज़ारो को
but we eat
बड़ी तकलीफ होती है
hurts a lot
मचल के जब भी आँखों से
Whenever from the eyes of Machal
छलक जाते है दो आंसू
two tears spill
मचल के जब भी आँखों से.
Whenever from the eyes of Machal. https://www.youtube.com/watch?v=cZd14h3TLIA

Leave a Comment